Wednesday, July 7, 2010

कार्टूनिस्ट सुरेश की पेशकश....

तब और अब -------
                                          *********************************************
**********************************************

32 comments:

  1. acchi hai lekin ye kab hoga?

    ReplyDelete
  2. क्या खूब (नैतिक सहस देने के लिए आभार ! )

    ReplyDelete
  3. क्या बात है. मजा आ गया सर ! नव वर्ष की बधाइयाँ !

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ,मौजू ,काग भगोड़े गद्दी छोडो ,मम्मी जी की संगत छोडो .... ब्लॉग पर आपकी फौरी दस्तक के लिए बहुत बहुत शुक्रिया .
    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    गर्भावस्था और धुम्रपान! (Smoking in pregnancy linked to serious birth defects)
    http://sb.samwaad.com/

    रविवार, २१ अगस्त २०११
    सरकारी "हाथ "डिसपोज़ेबिल दस्ताना ".

    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. सच कोई जोड़ने की बात कभी नहीं ...

    ReplyDelete
  6. प्रिय सुरेश शर्मा जी बहुत अच्छा लगा ..ये चेहरे और आप के कार्टून बड़ी बड़ी बातें कह के सब समझा भी देते हैं
    आभार
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  7. बडिया। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. अच्छा व्यंग्य विनोद है सीधा और सपाट आज़ादी के बाद का हासिल यही है मेरे भाई .

    ReplyDelete
  9. क्या बात है जी आपने आज की सच्चाई को खूब सुरती से दिखाया,...
    बेहतरीन प्रस्तुति,......
    मेरे नए पोस्ट पर आइये,....

    ReplyDelete
  10. तीक्ष्ण प्रस्तुति. वाह उस्ताद वाह !

    ReplyDelete
  11. महंगाई तो मारती ही जा रही है । बढिया सटीक कार्टून ।

    ReplyDelete
  12. तीखा व्यंग्य ...काजल जी क्या करें वे भी ..कान तो दस परतों में बंधा है ....
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  13. तीखा व्यंग्य ...सुरेश जी क्या करें वे भी ..कान तो दस परतों में बंधा है ....
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  14. मजा आ गया पढ़ के आपका ब्लॉग बहोत अच्छा है खास कर आपने बनाए Cartoons

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग (नया ब्लॉग)

    ReplyDelete
  15. काश, ये मांग पूरी हो जाती।

    सुंदर।

    ............
    International Bloggers Conference!

    ReplyDelete
  16. इस शमा को जलाए रखें।

    दुनिया में हास्‍य की बहुत जरूरत है।

    ............
    हर अदा पर निसार हो जाएँ...

    ReplyDelete
  17. काश ये महंगाई का अजगर अपनी पकड ढीली कर दे ।
    बढिया कार्टून ।

    ReplyDelete
  18. असल में अपना देश न हर बुराई को पसंद आ जाता है यहाँ सबकी दाल गल जाती है.

    ReplyDelete
  19. महंगाई डायन खाए जात है

    ReplyDelete
  20. बहुत उम्दा...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  21. कल महँगाई-डायन ने अपने चहेते-भैया "भ्रष्टाचार" को शुभ मुहूर्त में राखी यानी "रक्षाबँधनी-डोर" बाँधी तो थी....!!

    ReplyDelete